--- मूल लेखक : निकोलाई तेलेशोव
--- अनुवाद : सुशांत सुप्रिय

सुबह तड़के का समय था  व्लैदिमीर क्लादूनोव नाम का बाईस वर्ष का एक लम्बा , रूपवान युवक उस घास के मैदान पर खड़ा था जिस पर ताज़ा बर्फ़ गिरी हुई थी  युवक का मनोहर चेहरा किसी लड़के जैसा था और उसके बाल घने और घुँघराले थे  उसने एक अधिकारीकी वर्दी पहन रखी थी और उसके पैरों में घुड़सवारी वाले लम्बे जूते थे  लेकिन उसने ओवर-कोट और टोपी नहीं पहनी हुई थी  वह लाल चेहरे और मूँछों वाले एक अन्य अधिकारी को घूर रहा था जो उससे तीस मीटर दूर खड़ा था  वह अधिकारी धीरे-धीरे अपने उस हाथ कोउठा रहा था जिसमें उसने रिवॉल्वर पकड़ रखी थी  हाथ उठा कर उसने रिवॉल्वर का निशाना व्लैदिमीर पर लगा दिया 
व्लैदिमीर क्लादूनोव के एक हाथ में भी रिवॉल्वर थी किंतु ऐसा लग रहा था जैसे वह लगभग उदासीनता से प्रतिद्वन्द्वी की गोली की प्रतीक्षा कर रहा था  उसका रूपवान , युवा चेहरा हर रोज़ की अपेक्षा कुछ फीका था किंतु वह निडरता से स्थिति का सामना कर रहा थाऔर उसके चेहरे पर तिरस्कार की हँसी थी  वह अभी ख़तरनाक स्थिति में था  उसका प्रतिद्वन्द्वी निर्दयी और दृढ़ निश्चय वाला था  उन दोनों के कर्मठ सहायक सावधानी से एक ओर खड़े थे  मृत्यु की सन्निकटता उस पूरे पल को भयानक तीव्रता , रहस्यमयता औरगाम्भीर्य प्रदान कर रही थी  मान-मर्यादा के एक प्रश्न का फ़ैसला होना था  हर व्यक्ति इस प्रश्न की महत्ता से परिचित था ; वे क्या कर रहे थे , इस बात को वे जितना कम समझ रहे थे , पल की गम्भीरता उतनी ही गहरी होती जा रही थी 
एक गोली चली  सब की देह में एक कँपकँपी दौड़ गई  व्लैदिमीर के हाथ नीचे की ओर गिरे , उसके घुटने मुड़ गए और वह ज़मीन पर लुढ़क गया  वह बर्फ़ पर गिरा पड़ा था और गोली उसके सिर को चीर कर निकल गई थी  उसके हाथों , बाल , चेहरे और सिर के आस-पास की बर्फ़ ख़ून से लाल थी  सहायक उसकी ओर दौड़े और उन्होंने उसे उठा लिया  मौके पर मौजूद डॉक्टर ने उसकी मृत्यु की पुष्टि कर दी , और मान-मर्यादा के प्रश्न का हल निकल गया 
अब केवल रेजीमेंट में इस ख़बर की घोषणा की जानी बाक़ी थी  साथ ही , जितनी कोमलता और सावधानी से हो सके , मृतक की माँ को इस घटना की सूचना दी जानी थी  वह वृद्धा अब दुनिया में अकेली रह गई थी  जिस युवक की मृत्यु हुई थी , वह उस वृद्धा का इकलौताबेटा था  द्वन्द्व-युद्ध से पहले किसी ने उस वृद्धा के बारे में सोचा भी नहीं था , किंतु अब वे सभी बेहद सहृदय हो गए थे  वे सभी उस वृद्धा माँ को जानते थे तथा उसके प्रति स्नेह का भाव रखते थे  वे इस तथ्य से अवगत थे कि उस वृद्धा को यह भयावह समाचार सुनने केलिए धीरे-धीरे तैयार किए जाने की ज़रूरत थी  उस वृद्धा माँ को यह सूचना देने के लिए अंत में इवान गोल्युबेन्को को सबसे उपयुक्त पाया गया और उम्मीद की गई कि वह इस मामले को जितनी शांति से हो सके , निपटा दे 
वृद्धा पेलेजिया पेत्रोव्ना कुछ देर पहले ही सो कर उठी थी  इस समय वह सुबह की चाय बना रही थी जब उदास और चकराया हुआ गोल्युबेन्को कमरे में दाखिल हुआ 
चाय पीने के लिए बिल्कुल सही समय पर आए हो , ईवान
ईवानोविच ! " बड़े मिलनसार ढंग से बोलते हुए उस वृद्धा ने उठ कर मेहमान का स्वागत किया  " तुम ज़रूर व्लैदिमीर से मिलने आए होगे ! "
जी , दरअसल मैं ... इधर से गुज़र रहा था -- " गोल्युबेन्को ने घबरा कर हकलाते हुए कहा 
माफ़ करना  वह तो अभी सो रहा है  कल सारी रात वह कमरे में इधर-से-उधर चहलक़दमी करता रहा  इसलिए मैंने नौकर से भी कहा कि वह उसे  उठाए , क्योंकि आज यूँ भी त्योहार का दिन है  लेकिन तुम शायद ज़रूरी काम से आए हो ? "
जी नहीं , मैं तो यहाँ से गुज़रते हुए बस यूँ ही एक मिनट के लिए -- "
अगर तुम उससे मिलना चाहो तो मैं उसे नींद से जगा देने का आदेश दे दूँगी  "
नहीं , नहीं , आप तकलीफ़  करें ! "
लेकिन पेलेजिया पेत्रोव्ना को लगा कि वह उसके बेटे से ज़रूर किसी ज़रूरी काम से मिलने आया है  इसलिए वह कुछ बुदबुदाते हुए कमरे से बाहर चली गई। गोल्युबेन्को बेचैनी से कमरे में इधर-से-उधर टहलने लगा  वह अपने हाथ मलते हुए यह सोच रहा था कि वह वृद्धाको उसके बेटे की अकाल-मृत्यु की भयावह सूचना कैसे दे  निर्णायक घड़ी अब जल्दी ही पास  रही थी , किंतु वह खुद पर नियंत्रण खोता जा रहा था  वह बेहद डरा हुआ था और अपनी किस्मत को कोस रहा था जिसके कारण उसे इस सारे मामले में घसीट लिया गया था 
अरे , तुम युवकों पर कौन भरोसा कर सकता है ! " कमरे में प्रवेश करते हुए पेलेजिया पेत्रोव्ना ने ख़ुशमिज़ाजी से आगंतुक से कहा  " यहाँ मैं पूरी कोशिश कर रही हूँ कि बर्तनों की वजह से कोई शोर  हो , और तुम्हें कह रही हूँ कि मेरे बेटे को  उठाया जाए  पर वहाँ वहबिना पीछे कोई निशान छोड़े पूरा-का-पूरा ग़ायब हो चुका है  लेकिन प्रिय ईवान ईवानोविच , तुम तो स्थान ग्रहण करो और चाय पियो  इधर हाल में तुम हमें उपेक्षित करते रहे हो ! "
वह जैसे किसी गुप्त खुशी से अभिभूत हो कर हँसी और फिर उसने धीमे स्वर में कहा , " और इस समय हमें कितनी ख़बरें पता चलीं ! व्लैदिमीर वाकई इसे गुप्त नहीं रख सका  अब तक तो उसने तुम्हें भी इसके बारे में सब कुछ बता दिया होगा , क्योंकि मेरा व्लैदिमीरबेहद सीधा-सादा और खुले दिल वाला है 
कल रात मैं अपने पापमय विचारों में डूबी यह सोच रही थी -- ' यदि मेरा बेटा व्लैदिमीर पूरी रात इधर-से-उधर चहलक़दमी कर रहा है , तो इसका मतलब है कि वह अपनी प्रेमिका लेनोच्का के बारे में सोच रहा है ! ' हर बार वह यही करता है  यदि वह सारी रात कमरे मेंचहलक़दमी करता है , तो वह सुबह ज़रूर ग़ायब हो जाता है  ओह , ईवान ईवानोविच , बुढ़ापे में मैं ईश्वर से केवल यही एक खुशी माँगती हूँ  एक वृद्धा को और क्या चाहिए ? मेरी तो केवल एक ही इच्छा है , एक ही खुशी  मुझे तो यह लगता है कि व्लैदिमीर और लेनोच्काकी शादी हो जाने के बाद मेरे पास ईश्वर से माँगने के लिए और कुछ नहीं बचेगा  इनका ब्याह मुझे बेहद ख़ुशनसीब और प्रसन्न बना देगा ! व्लैदिमीर के अलावा मुझे और कुछ नहीं चाहिए ; उसकी खुशी से अधिक क़ीमती मेरे लिए और कुछ नहीं  " वृद्धा इतनी भावुक होगई कि उसे अपनी आँखों में भर आए आँसू पोंछने पड़े 
क्या तुम्हें याद है , " उसने बोलना जारी रखा , " शुरू में बात नहीं बन रही थी -- या तो उन दोनों के बीच रुपये-पैसों को लेकर कोई बात थी या कोई और ही वजह थी  तुम जैसे युवा अधिकारियों को बिना उचित पहनावों के शादी की इजाज़त भी तो नहीं दी जाती  ख़ैर , अबमैंने सारा बंदोबस्त कर लिया है  व्लैदिमीर की शादी के लिए पाँच हज़ार रूबल्स की जो रक़म चाहिए थी , वह मैंने जुटा ली है  और यदि वे चाहें तो कल ही शादी कर सकते हैं ! हाँ , और लेनोच्का ने मुझे इतनी प्यारी चिट्ठी लिखी है  मेरा दिल खुशी से फूला नहीं समा रहा ! " बोलते हुए वृद्धा पेलेजिया पेत्रोव्ना ने अपनी जेब में से एक चिट्ठी निकाली और उसे गोल्युबेन्को को दिखा कर उसने वह चिट्ठी वापस अपनी जेब में रख ली 
वह कितनी प्यारी लड़की है ! कितनी अच्छी ! " इवान गोल्युबेन्को को वृद्धा की बातें सुनकर लग रहा था जैसे वह जलते हुए अंगारों पर बैठा हुआ है  वह पेलेजिया पेत्रोव्ना को बीच में ही रोकना चाहता था और उसे बताना चाहता था कि अब सब कुछ ख़त्म हो गया था , किअब उसके व्लैदिमीर की मृत्यु हो गई थी , और यह कि एक छोटे-से घंटे के भीतर ही उसकी सारी उम्मीदें नष्ट हो जाने वाली थीं  किंतु वह चुपचाप वृद्धा पेत्रोव्ना को बोलते हुए देखता-सुनता रहा  उसके प्रसन्न चेहरे को देख कर गोल्युबेन्को के मन में एक हूक-सी उठी 
पर आज तुम इतने उदास और बुझे हुए क्यों लग रहे हो ? " अंत में वृद्धा ने उससे पूछा  " तुम्हारा चेहरा रात-सा काला लग रहा है ! " ईवान ने कहना चाहा , " हाँ ! और जब तुम्हें अपने बेटे की मृत्यु के बारे में पता चलेगा , तो तुम्हारा चेहरा भी ऐसा ही हो जाएगा ! " लेकिनवृद्धा को कुछ भी बताने की बजाए उसने अपना चेहरा दूसरी ओर घुमा लिया और अपनी मूँछों को ऐंठने लगा  पेलेजिया पेत्रोव्ना ने इसे नहीं देखा  वह अपने ख़्यालों में पूरी तरह गुम थी  उसने कहना जारी रखा -- " लेनोच्का लिखती है कि मैं ईवान ईवानोविच कोनमस्कार कहती हूँ  मैं चाहती हूँ कि वह व्लैदिमीर के साथ मेरे यहाँ आए  तुम तो यह जानते ही हो कि वह तुम्हें कितना पसंद करती है , ईवान ईवानोविच  नहीं , लगता है , मैं इस पत्र को अपने तक सीमित नहीं रख पाऊँगी  मैं इसे पढ़ कर तुम्हें सुनाती हूँ  देखो , कितना प्यारा पत्र है  "
पेलेजिया पेत्रोव्ना ने दोबारा अपनी जेब से चिट्ठियों का बंडल निकाला 
उसने उसमें से एक चिट्ठी अलग की  वह सघन लिखावट वाला पत्र था जिसे उसने ईवान के लिए खोला  ईवान का चेहरा और भी उदास हो गया था  उसने अपने हाथ से उस पत्र को दूर हटा देना चाहा , किंतु वृद्धा पेलेजिया पेत्रोव्ना ने उस पत्र को पहले ही पढ़ना शुरू करदिया -- " प्रिय पेलेजिया पेत्रोव्ना -- वह समय कब आएगा जब मैं आपको अभी की तरह नहीं , बल्कि ' मेरी प्रिय माँ ' कह कर सम्बोधित कर पाऊँगी ! मैं उस समय की आतुरता से प्रतीक्षा कर रही हूँ , और मुझे उम्मीद है कि वह समय जल्दी ही आएगा  दरअसल मैं तोअभी से आपको कुछ और नहीं बल्कि ' माँ ' कह कर सम्बोधित करना चाहती हूँ  --" पेलेजिया पेत्रोव्ना ने पढ़ना बंद करके अपना सिर उठाया और गोल्युबेन्को की ओर देखा  उसकी आँखों में आँसू झिलमिला रहे थे 
क्या तुम देख रहे हो , ईवान ईवानोविच , " उसने कहा  लेकिन जब उसने देखा कि गोल्युबेन्को दाँत से अपनी मूँछों को काट रहा था और उसकी आँखें भी गीली थीं , तो वह उठी और उसने अपना काँपता हाथ गोल्युबेन्को के बालों पर रखा और चुपचाप उसके माथे को चूमलिया  " शुक्रिया ईवान ईवानोविच , " उसने फुसफुसा कर कहा  वह बेहद विचलित हो गई थी  " मैं हमेशा यही सोचती थी कि तुम और व्लैदिमीर सामान्य मित्रों की बजाए भाइयों जैसे अधिक थे  माफ़ करना  मैं बेहद खुश हूँ  ईश्वर तेरा शुक्रिया  " उसकी आँखों सेआँसू की बूँदें ढुलक कर उसके गालों पर  गई थीं 
ईवान गोल्युबेन्को इतना घबराया और चकराया हुआ महसूस कर रहा था कि प्रत्युत्तर में वह वृद्धा पेत्रोव्ना के हड्डियों वाले ठंडे हाथों को ले कर केवल उन्हें चूम भर सका  आँखों से बहते आँसुओं की वजह से उसका गला रुँध गया था , और वह एक भी शब्द नहीं बोल पाया पर मातृत्व से उपजे स्नेह के इस अगाध प्रदर्शन की वजह से ईवान ने अपने प्रति एक ज़बर्दस्त धिक्कार महसूस किया  इस स्थिति से बचने के लिए तो वह स्वयं सिर में गोली खा कर मैदान में मरे पड़े होने को भी तैयार था 
इस वृद्धा से मित्रता के लिए प्रशंसा पाना उसे असहनीय लग रहा था क्योंकि आधे घंटे के भीतर ही उसे पूरी सच्चाई पता चल जाने वाली थी  तब वह उसके बारे में क्या सोचने वाली थी ? एक मित्र , लगभग भाई होते हुए भी क्या वह उस समय चुपचाप नहीं खड़ा रहा जबव्लैदिमीर को एक रिवॉल्वर का निशाना बनाया गया ? क्या इस भाई ने ही दोनों प्रतिद्वंद्वियों के बीच की दूरी को नहीं नापा था और उनके रिवॉल्वरों में गोलियाँ नहीं भरी थीं ? उसने यह सब कुछ पूरे होशो-हवास में किया था ; और अब वह मित्र और भाई अपना कर्तव्यनिभाने की हिम्मत दिखाने की बजाए वहाँ चुपचाप बैठा था  वह बेहद डरा हुआ था  इस पल उसे खुद से घृणा हो रही थी , किंतु वह इतना विवश महसूस कर रहा था कि एक भी शब्द नहीं बोल पाया  उसकी आत्मा चैन के अभाव में छटपटा रही थी  उसके सीने में घुटनभरी थी  वह बीमार महसूस कर रहा था 
इस बीच समय गुज़र रहा था  वह यह बात जानता था , किंतु जितना ज़्यादा वह इस बात को जानता था , उसे उतनी ही कम हिम्मत हुई कि वह पेलेजिया पेत्रोव्ना को सच्चाई बता कर उसके कुछ अंतिम ख़ुशनुमा पलों से उसे वंचित कर दे  वह उसे क्या कहे ? वह इसत्रासद सूचना के लिए उस वृद्धा को कैसे तैयार करे ? ईवान गोल्युबेन्को का दिमाग़ फिर गया  उसके पास सभी द्वंद्व-युद्धों , सभी
लड़ाइयों , सभी तरह की शूरवीरता , और तथाकथित मान-मर्यादा के सभी तरह के प्रश्नों को शाप देने के लिए पर्याप्त समय था  अंत में वह अपनी जगह से उठा क्योंकि या तो वह उस वृद्धा पेत्रोव्ना को सच्चाई बता देना चाहता था , अन्यथा वह वहाँ से दूर कहीं भाग जानाचाहता था 
चुपचाप जल्दी से उसने पेलेजिया पेत्रोव्ना का हाथ थाम लिया और झुक कर अपने होठों से उसे छुआ , जिससे उसका चेहरा छिप गया  तभी अचानक उसकी आँखों से आँसुओं की झड़ी लग गई  वह बिना कुछ सोचे जल्दी से दौड़ कर गलियारे में पहुँचा और अपना ओवर-कोट उठा कर बिना कुछ कहे मकान से बाहर निकल गया  पेलेजिया पेत्रोव्ना हैरानी से उसकी ओर देखती रही  उसने सोचा -- " ओह , यह बेचारा भी किसी के प्रेम में दीवाना होगा  खुशी मिलने से पहले इन युवा लोगों को कितना दुख झेलना पड़ता है ! " ... और अपने ऐसेसपनों में खोई , जो पूर्ण थे और जिन्हें भंग नहीं किया जा सकता था , वह जल्दी ही उसे भूल गई 

0 comments:

Post a comment

 
Top