हिन्दी भाषा की विविधता, सौन्दर्यडिजिटल और अंतराष्ट्रीय स्वरुप का उत्सव हिन्दी महोत्सव 2018 युनाइटेड किंगडम  के तीन बड़े शहरों में आयोजित किया जा रहा है। वाणी फ़ाउंडेशनयू.के. हिन्दी समितिवातायन  और कृति यू. के. के संयुक्त तत्त्वावधान में 28 जून से 1 जुलाई 2018 तक चार दिन तक चलने वाले हिन्दी महोत्सव का आयोजन  ऑक्सफोर्ड, लन्दन और बर्मिंघम  में सुनिश्चित किया गया है। महोत्सव में भाषा, साहित्य, प्रवासी लेखन, कविता और संगीत, मीडिया और प्रकाशन जगत से सम्बन्धित विविध विषयों पर परिचर्चा, सम्मेलन, कार्यशाला और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। साथ ही यूनाइटेड किंगडम में हिन्दी पढ़ रहे छात्रों से विशेष संवाद भी किया जायेगा। 

भारतीय भाषाओँ के विकास और उनके वैश्विक प्रारूप को समृद्ध बनाने के लिए प्रतिबद्ध संस्था वाणी फाउंडेशन के अध्यक्ष अरुण माहेश्वरी ने कहा,  " यह हिन्दी महोत्सव भाषा और साहित्य की तकनीकी प्रगति को समर्पित है। हिन्दी महोत्सव वह स्थान है जहाँ हम अपनी ललित कलाओं का प्रदर्शन करें। बिना किसी प्रकार का संकोच किये। और यह स्थान वह भी है जहाँ पारम्परिक साहित्य और नये आधुनिक साहित्य को पाठकों तक पहुंचाया जाय। हमारी आने वाली पीढ़ी इस सुगन्धित वातावरण से गुलज़ार रहेगी। विश्व के सभी देशों में चाहे वह अमेरिका हो या अफ्रीका, क्षेत्रीय लोकभाषाओं की मृत्यु के भयानक आँकड़े मिलते हैं। इन्हीं सब घटनाओं ने मुझे हिन्दी महोत्सव के आयोजन को एक मूर्त रूप देने की सार्थक दिशा दी। यह हिन्दी महोत्सव हिन्दी भाषा को और समृद्ध करने की रचनात्मक पहल है। हम चाहते हैं कि हिन्दी भाषी समाज के साथ-साथ ही आप भारतीय भाषाओं के साथ भी जुड़ें और भाषायी विकास को रोशन करें।"


यू.के. हिन्दी समिति के संस्थापक पद्मेश गुप्त का कहना है  कि हिन्दी महोत्सव के आयोजन के माध्यम से यू॰के॰ की सक्रिय संस्थाओं को एक मंचप्रदान करने जा रहे हैं। इस आयोजन से यहाँ के हिन्दी लेखकोंशिक्षकों और विद्यार्थियों को प्रेरणा और मनोबल मिलेगा। ब्रिटेन में हिन्दी महोत्सव का आयोजन विभिन्न शहरों में हो रहा है जिससे हम अधिक से अधिक लोगों तक पहुँच सकें और अगस्त में मॉरिशस में होने वाले ग्यारहवें विश्व हिन्दी सम्मेलन का भी प्रचार कर सकें।

0 comments:

Post a comment

 
Top