null
लखनऊ : पहली बार राजधानी लखनऊ में सजे तीन दिवसीय यूपी दिवस के बाद शनिवार को लखनऊ महोत्सव का धमाकेदार आगाज हुआ। महोत्सव की पहली शाम भोजपुरी कलाकारों के नाम रही, जिसमें भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार रवि किशन ने भोजपुरी गीतों पर धमाकेदार नृत्य से दर्शकों को झुमाया। रवि किशन की प्रस्तुति से पहले महोत्सव का विधिवत उद्घाटन हुआ।

दर्शकों से खचाखच भरे सांस्कृतिक पंडाल के मंच पर जब भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार रवि किशन ने दस्तक दी तो तालियों और सीटयों की आवाज से पूरा पंडाल गूंज उठा। अपने चिरपरिचित अंदाज में रवि ने भोजपुरी में सभी का इस्तकबाल किया और महोत्सव की पहली संध्या में गीतों, संवाद एवं नृत्य से लोगों का खूब मनोरंजन किया। इन दिनों राजनीति में सक्रिय भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार मनोज तिवारी गायन से अभिनय की ओर गए थे जबकि रवि किशन अभिनय से गाय की ओर आए। बावजूद महोत्सव की शाम को रवि ने नृत्य , संवाद और गीतों से यादगार बनाई।

लखनऊ महोत्सव में इस बार कई नए रंग जुड़ गए। स्थानीय कलाकारों की प्रस्तुतियों के अंतर्गत संगीत के विविध विधाओं का गुलदस्ता खूब सजा। स्थानीय कलाकारों की शाम की प्रस्तुतियों में जहां खूबसूरत लोक धुनों में रचे गीत थे, वहीं शास्त्रीय नृत्य के कार्यक्रम भी हुए।

भोजपुरी गायक दिवाकर द्विवेदी ने रामचरित मानस की चौपाइयों के बाद कई लोक गीत सुनाए। युवा गायक हर्षित कुमार मिश्र ने ऐ दिल है मुश्किल, नशे सी चढ़ गई सहित कई फिल्मी गीत सुनाए। संजोली पांडेय ने जहां पर्यटन गीत मैं उत्तर प्रदेश हूं, अपना हाल बताने आया हूं, वहीं बेटी बचाओ अभियान से जुड़ा गीत भी सुनाया। बाल कलाकार अभिवंदन बिज ने एकल तबला वादन की प्रस्तुति की, जिसमें उन्होंने उठान, बांट, रेला, टुकड़ा, परन, बेदम तिहाई, चक्करदार बजाया।

 संध्या में निशी मिश्र एवं साथियों ने शास्त्रीय नृत्य के अंतर्गत गणेश वंदना पर भाव प्रदर्शन किया। दिया सिंह ने फिल्मी गीतों पर नृत्य किया। कार्यक्रम का संचालन अनीता सहगल ने किया।


0 comments:

Post a comment

 
Top