नयी दिल्ली : हिंदी के चर्चित व्यंग्यकार और किताब घर प्रकाशन के संपादक सुशील सिद्धार्थ का आज सुबह हार्टअटैक होने से निधन हो गया. वे 60 वर्ष के थे. आज सुबह जब उनकी तबीयत बिगड़ी तो उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. उनका अंतिम संस्कार लखनऊ में होगा. उनके शव को लखनऊ भेजने की तैयारी चल रही है. 

सुशील सिद्धार्थ ने हिंदी साहित्य में पीएचडी किया है. प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में उनकी रचनाएं प्रकाशित हो चुकीं हैं. वे चर्चित स्तंभ लेखक थे साथ ही मीडिया लेखन व अध्यापन करते थे. 

प्रमुख प्रकाशित कृतियां हैं:- प्रीति न करियो कोय,मो सम कौन,नारद की चिंता,मालिश महापुराण,हाशिए का राग,सुशील सिद्धार्थ के चुनिंदा व्यंग्य ( व्यंग्य संग्रह) दो अवधी कविता संग्रह. संपादित पुस्तकें: पंच प्रपंच,व्यंग्य बत्तीसी(व्यंग्य संकलन) श्रीलाल शुक्ल संचयिता,मैत्रेयी पुष्पा रचना संचयन,हिंदी कहानी का युवा परिदृश्य(3 खंड) . 

किताबघर प्रकाशन की सीरीज़ ' व्यंग्य समय ' में परसाई,शरद जोशी,श्रीलाल शुक्ल, रवींद्र नाथ त्यागी,मनोहरश्याम जोशी, नरेंद्र कोहली और ज्ञान चतुर्वेदी के चयनित व्यंग्य की छः किताबें . व्यंग्य और अवधी कविता के लिए दो दो बार उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान से नामित पुरस्कार.

0 comments:

Post a comment

 
Top